Home > OUR PORTFOLIO LIST > PREMATURE EJACULATION TREATMENT (शीघ्रपतन)

PREMATURE EJACULATION TREATMENT (शीघ्रपतन)

Premature ejaculation is where a man ejaculates too quickly during sexual intercourse.Premature ejaculation (PE) is when ejaculation happens sooner than a man or his partner would like during sex. Occasional PE is also known as rapid ejaculation, premature climax or early ejaculation. PE might not be a cause for worry. It can be frustrating if it makes sex less enjoyable and impacts relationships.
Premature ejaculation is a form of sexual dysfunction that can adversely affect the quality of a man’s sex life. It is when an orgasm or “climax” occurs sooner than wanted.

There may occasionally be complication with reproduction, but premature ejaculation (PE) can also adversely affect sexual satisfaction, both for men and their partners.

How Does Ejaculation Work?

Ejaculation is controlled by the central nervous system. When men are sexually stimulated, signals are sent to your spinal cord and brain. When men reach a certain level of excitement, signals are then sent from your brain to your reproductive organs. This causes semen to be released through the penis (ejaculation).

Ejaculation has 2 phases: emission and expulsion.

Phase 1: Emission
Emission is when sperm moves from the testicles to the prostate and mixes with seminal fluid to make semen. The vasa deferentia are tubes that help move the sperm from the testicles through the prostate to the base of the penis. (When you are talking about just 1 of these tubes, it is called a vas deferens.)

Phase 2: Expulsion
Expulsion is when the muscles at the base of the penis contract. This forces semen out of the penis. Usually, ejaculation and orgasm (climax) happen at the same time. Some men climax without ejaculating. In most cases, erections go away after this step.

Premature Ejaculation and Erectile Dysfunction (ED)

Sometimes PE is a problem for men who have erection problems (erectile dysfunction or ED). This is when men are not able to get or keep an erection that’s firm enough for sex. Since an erection goes away after ejaculation, it can be difficult to know if the problem is PE or ED. ED should be treated first. Premature ejaculation may not be a problem once the ED is treated.

Causes
Serotonin
Though the exact cause of PE is not known, serotonin may play a role. Serotonin is a natural substance made by nerves. High amounts of serotonin in the brain increase the time to ejaculation. Low amounts can shorten the time to ejaculation, and lead to PE.

Psychological Issues
Mental health issues can be involvedd in PE such as:

temporary depression
stress
guilt
unrealistic expectations about sexual performance
history of sexual repression
overall lack of confidence
relationship problems
Managing emotional problems often helps.

Related Issues
PE and Age
Premature ejaculation can happen at any age. Aging is not a direct cause of PE, though aging does cause changes in erections and ejaculation. For older men, erections may not be as firm or as large. Erections may not last as long before ejaculation occurs. The feeling that ejaculation is about to happen may be shorter. These changes can naturally lead to an older man ejaculating earlier.

PE and Your Partner
With PE, you may feel you lose some of the closeness shared with a sexual partner. You might feel angry, ashamed and upset, and turn away from your partner. Premature ejaculation doesn’t only affect you, it also affects your partner. Your partner may be upset with the change in sexual intimacy. PE can cause partners to feel less connected, or feel hurt or distant.

Talking about the problem is an important step. Couples counseling or sex therapy can be helpful. Exercises, such as the squeeze technique, may be helpful for you and your partner to prolong an erection (see the treatment section of this article for details). Most importantly, a couple should learn ways to relax. Worry (such as performance anxiety) only makes PE worse.

Diagnosis
When PE gets in the way of your sexual pleasure, you should see your health care provider. Most often, your health care provider will diagnose PE after a physical exam and talking with you. Some questions he or she may ask are:

How often does PE happen?
How long have you had this problem?
Does this happen with just one partner, or every partner?
Does PE happen with every attempt at sex?
What type of sexual activity (i.e., foreplay, masturbation, intercourse, use of visual cues, etc.) do you engage in and how often?
How has PE affected your sexual activity?
How are your personal relationships?
Is there anything that makes PE worse or better (i.e., drugs, alcohol, etc.)?
Lab testing is only needed if your health care provider finds something during your physical exam.

Treatment
Psychological therapy, behavioral therapy, and drugs are the main treatments for PE. You can talk with your health care provider to decide what will help. More than one type of treatment may be used at the same time.

Psychological Therapy
Therapy is a way to address the negative feelings and emotions that lead to problems with sexual relationships. Psychological therapy can be used as the only treatment, or it may be used along with medical or behavioral therapy. The goal of therapy is to learn the source of problems and find solutions that may end PE. It can also help couples learn to grow closer. Psychological therapy can help you become less nervous about sexual performance. It can also give you greater sexual confidence and understanding to improve your partner’s satisfaction.

Behavioral Therapy
Behavioral therapy uses exercises to help build tolerance to delay ejaculation. The goal is to help you train your body away from Premature ejaculation. Examples include the squeeze method and the stop-start method. Exercises work well, but they may not be a lasting answer. They depend upon your partner’s help, which is not always possible.

The Squeeze Method
With this method, your partner stimulates your penis until you are close to ejaculation. When you are close, your partner firmly squeezes your penis so your erection partly goes away. The goal is for you to become aware of the sensations leading to climax. Then you can better control and delay climax on your own.

The Stop-Start Method
In this method your partner stimulates your penis until just before ejaculation. Your partner then stops until the urge to climax lets up. As you regain control, you ask your partner to start stimulating your penis again. This process is repeated 3 times. You ejaculate on the fourth time. You repeat this method 3 times a week with your partner until you have gained more control.

Medical Therapy
No drugs have been approved in the United States to treat PE. Still, there are some drugs and numbing creams or sprays that have been shown to slow ejaculation in men with PE.

Drugs
Doctors noticed that men and women on antidepressants have delayed orgasms. Drugs such as fluoxetine, paroxetine, sertraline and clomipramine affect serotonin levels. Doctors began to use these drugs “off-label” (for a different reason than the drug’s original use) to treat PE. If one drug doesn’t work, your doctor may have you try a different drug. If the second drug doesn’t work, others will not likely help.

Drugs for PE can be taken every day or only before sex. Your health care provider will decide when you should take a drug based on your activity level. The best time to take the drug is not clear. Most doctors suggest from 2 to 6 hours before sex. PE can return if you stop taking these drugs. Most men with PE need to take these drugs on an ongoing basis.

Numbing Creams or Sprays
These creams/sprays are put on the head of the penis about 20 to 30 minutes before sex. If you leave the numbing cream/spray on your penis for longer than suggested, your erection may go away. Also, the numbing cream/spray should not be left on the exposed penis during vaginal sex because it may cause vaginal numbness. Wash the cream off your penis 5 to 10 minutes before sex. Wearing a condom can also help dull sensation.

When to see a doctor

Talk with your doctor if you ejaculate sooner than you wish during most sexual encounters. It’s common for men to feel embarrassed about discussing sexual health concerns, but don’t let that keep you from talking to your doctor. Premature ejaculation is a common and treatable problem.

For some men, a conversation with a doctor might help lessen concerns about premature ejaculation. For example, it might be reassuring to hear that occasional premature ejaculation is normal and that the average time from the beginning of intercourse to ejaculation is about five minutes.

After Treatment

With the simple techniques listed here, about 95 out of 100 men will recover from PE. There is no way to promise recovery, but learning how to relax helps. If the problem remains, continue to work with your health care provider to find solutions.

क्या होता है शीघ्रपतन (Shighrapatan)?
शीघ्रपतन का देसी इलाजप्रीमैच्योर इजेकुलेशन जिसे हिंदी में शीघ्रपतन (Shighrapatan) या बोलचाल की भाषा में early discharge भी कहा जाता है बहुत ही कॉमन प्रॉब्लम है और सामान्यतः दुनिया भर के 30 से 40% पुरुषों में पाई जाती है. अमेरिका में The National Health and Social Life Survey (NHSLS) में पाया गया कि वहां के 30% adult males शीघ्रपतन से ग्रसित हैं. ये भी माना जाता है कि हर पुरुष अपने जीवन काल में कभी न कभी शीघ्रपतन की समस्या से ग्रस्त होता है.

इसलिए अगर आप इस समस्या से परेशान हैं तो खुद को अकेला मत समझिये, आप अकेले नहीं जूझ रहे बल्कि एक-तिहाई पुरुष जाति आपके साथ है. लेकिन, चूँकि लोग इस बारे में openly किसी से बात नहीं करते इसलिए उन्हें लगता है कि बस वे ही इससे परेशान हैं.

शीघ्रपतन = शीघ्र + पतन , यानी जल्दी गिरना

लेकिन किस चीज का जल्दी गिरना?

वीर्य यानि sperms का जल्दी गिरना.

It means, शीघ्रपतन का अर्थ है पुरुषों के लिंग (penis) से वीर्य का जल्दी गिरना.

जब कोई male female के साथ सेक्स करता है उस समय वो अपना पेनिस फीमेल की वेजाइना में डालता है और उसे अन्दर-बाहर करता है. ये प्रक्रिया तब तक चलती है जब तक की पुरुष के पेनिस से वीर्य ( सफ़ेद चिप-चिपा पदार्थ) बाहर नहीं निकल जाता. वीर्य निकलने के बाद penis erect नहीं रह पाता और ये प्रक्रिया वहीँ ख़त्म हो जाती है.

Also read: शारीरिक कमजोरी दूर करने के 35 आयुर्वेदिक व घरेलू उपाय
एक ideal intercourse में पुरुष और महिला दोनों ही क्लाइमेक्स तक पहुँचते हैं और दोनों के sperms discharge होते हैं. लेकिन यदि औरत के satisfy होने से पहले ही आदमी का वीर्य निकला जाता है तो औरत अपने चरम रोमांच, i.e orgasm तक नहीं पहुँच पाती और उसे सेक्स में उतना मजा नहीं आता.

डॉक्टर्स का मानना है कि यदि पुरुषों का intravaginal ejaculatory latency time (IELT) यानि योनी में लिंग जाने के बाद और वीर्य स्खलन होने के बीच का समय :

1 मिनट से कम है तो पुरुष को “definite” Premature Ejaculation है.
1 से डेढ़ मिनट है तो “probable” Premature Ejaculation है.
कई मामलों में शीघ्रपतन की समस्या इतनी बढ़ जाती है कि पुरुष vaginal intercourse शुरू होने से पहले ही इजैक्युलेट कर देता है या सेक्स शुरू होने के फ़ौरन बाद ही उसका sperm discharge हो जाता है.

वैसे तो Shighrapatan की समस्या को पुरुष-महिला संबंधों से जोड़ कर ही देखा जाता है लेकिन कुछ डॉक्टर्स हस्तमैथुन के दौरान भी early discharge होने को शीघ्रपतन से जोड़ कर देखते हैं.

शीघ्रपतन के लक्षण क्या हैं? / Symptoms of premature ejaculation
The key symptoms of premature ejaculation include:

बार-बार प्रयास करने पर भी सेक्स के दौरान ejaculation को 1 मिनट तक ना रोक पाना
सेक्स को टालना
संभोग करने के बाद एक guilt feeling का होना कि आप partner को संतुष्ट नहीं कर पाए
सेक्स करने से पहले मन में शीघ्रपतन का डर आना
शीघ्रपतन के प्रकार / Types of Premature Ejaculation in Hindi
शीघ्रपतन दो प्रकार का होता है:

लाइफ लॉन्ग (प्राइमरी): यह व्यक्ति को शुरू से लेकर अंत तक रहता है. यानि early discharge की प्रॉब्लम पहली बार सेक्स करने से लेकर जब तक वह सेक्स करता है तब तक बनी रहती है.
एक्वायर्ड (सेकेंडरी) : इस मामले में पहले व्यक्ति नॉर्मल तरीके से ejaculate करता है लेकिन बाद में उसे शीघ्रपतन की शिकायत शुरू हो जाती है.
💡 बहुत से मर्दों को लगता है कि उन्हें प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की प्रॉब्लम है, लेकिन diagnostic criteria के हिसाब से वास्तव में ऐसा नहीं होता.

शीघ्रपतन के कारण / Shighrapatan Kaise Hota Hai

The Mayo Clinic के अनुसार अभी तक शीघ्रपतन का सटीक कारण पता नहीं लगाया जा सका है. जहाँ पहले इसे एक psychological problem समझा जाता था वहीँ अब इसे psychological और biological factors का combined effect माना जाता है.

Premature ejaculation (PE) इन कारणों से हो सकता है:

सेक्स करने का अनुभव ना होना
नए पार्टनर के साथ सेक्स करने पर PE हो सकता है
कुछ विशेष positions में सेक्स करने पर भी PE हो सकता है
बहुत दिनों के बाद सेक्स करने पर प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति आ सकती है
फीमेल पार्टनर को संतुष्ट करने की टेंशन
स्ट्रेस या चिंता, ये सम्भोग या किसी अन्य समस्या को लेकर भी हो सकती है
डिप्रेशन
किसी दवा का साइड इफ़ेक्ट
पेनिस के स्किन का हाइपर सेंसिटिव होना ( ऐसे मामलो में numbing creams मददगार होती हैं)
लड़कपन में पकड़े जाने के डर से जल्दबाजी में किया गया सेक्स बाद में भी PE cause कर सकता है
मन में सेक्स को लेकर guilt feeling होना कि ये गन्दी चीज है
इस बात की चिंता होना कि सेक्स के दौरान पेनिस देर तक खड़ा नहीं रह पायेगा, जड़ी एजैक्युलेट करने का पैटर्न बना सकता है
संबंधों में समस्या: यदि आप पहले किसी और के साथ सेक्स करते समय PE नहीं होता था, तो संभव है कि current partner के साथ आपके संबधों में कोई दिक्कत है, जिससे ये समस्या आ रही है.
हार्मोनल प्रॉब्लम
ब्रेन केमिकल्स का एब्नार्मल लेवल
Ejaculatory system की abnormal reflex activity
कुछ थाइरोइड सम्बन्धी समस्याएं
प्रोस्टेट या मूत्रमार्ग में सूजन या संक्रमण
अनुवांशिक कारण
सर्जरी या आघात के कारण नसों में हुई क्षति
डायबिटीज
हाई ब्लड प्रेशर
प्रोस्टेट डिजीज
Multiple sclerosis

काउंसलिंग
कई बार शीघ्रपतन के रोगी के मन में अनेक भ्रम एवं भ्रांतियाँ होती हैं उन्हें काउंसलिंग द्वारा ही दूर किया जा सकता है तथा रोगी के मन में व्याप्त भय एवं चिंता काउंसलिंग के माध्यम से दूर की जा सकती है.

💡 फीमेल पार्टनर को इलाज के दौरान आदमी का पूरा साथ देना चाहिए और उसके खोये आत्मविश्वास को जगाने के लिए सेक्स का पूरा आनंद ना मिलने पर भी complaint नहीं करनी चाहिए.
3) बिहेवियरल थेरेपी
कई रोगियों में बिहेवियरल थेरेपी बहुत फायदेमंद साबित होती है:

i) हस्तमैथुन: इसमें सेक्स करने से 2 घंटा पहले हस्तमैथुन करने की सलाह दी जाती है जिससे सेक्स करते समय अर्ली डिस्चार्ज नहीं हो पाता है किंतु कई मामलों में इससे सेक्स की इच्छा एवं उत्तेजना कम हो जाती है.

ii) एक्सरसाइज

शीघ्रपतन के लिए डॉक्टर विशेष एक्सरसाइज बताते हैं जो काफी कारगर साबित हो सकती है.

a) Start एंड Stop तकनीक

इस विधि के अंतर्गत साथी मास्टरबेशन करता है जैसे ही पुरुष डिस्चार्ज होने को होता है वह अपने पार्टनर को इशारा कर देता है. पार्टनर उसी समय मास्टरबेशन रोक देता है. जैसे ही उत्तेजना कम होती है फिर से यही प्रोसीजर दुबारा से करते हैं इसमें धीरे-धीरे वीर्य स्खलन रोकने की शक्ति बढ़ जाती है.

b) Squeeze तकनीक

इस तकनीक में पार्टनर हस्तमैथुन शुरू करता है जैसे ही स्खलन होने को होता है, साथी सुपारी के हिस्से को जोर से दबा देता है, जिससे इस वीर्य का बहाव बंद हो जाता है. धीरे-धीरे अभ्यास से डिस्चार्ज का समय बढ़ जाता है.

c) Kegal Exercise or Pelvic floor exercises

शीघ्रपतन का इलाजपेल्विक फ्लोर मसल्स का कमजोर होना देर से डिस्चार्ज करने की आपकी क्षमता को घटा सकता है. Pelvic floor exercises (Kegel exercises) इन मांसपेशियों को मजबूत करने में आपकी मदद कर सकती हैं.

सही मसल्स को खोजें: इसके लिए आप बीच में ही पेशाब करना रोकें, ऐसे करने के लिए जिन मसल्स को टाइट करना पड़ रहा है वही पेल्विक मसल्स हैं.
एक बार पता लग जाने के बाद आप किसी भी पोजीशन में एक्सरसाइज कर सकते हैं, हालांकि शुरुआत में लेटे-लेटे एक्सरसाइज करना आसान होगा.
अपनी pelvic floor muscles को टाइट करें, और 3 seconds तक दबाव बनाए रखें (इसमें हाथ का प्रयोग नहीं होगा) और फिर ढीला छोड़ दें. इस तरह आप कम से कम 3 बार करें. बाद में आप ये केगल एक्सरसाइज बैठे, खड़े, या वाक करते हुए कर सकते हैं. आप दिन भर में 10 बार इस एक्सरसाइज को रिपीट कर सकते हैं. Of course, इसके लिए आपको अलग से समय निकाने की ज़रुरत नहीं है, आप office में, ट्रेवल करते हुए, या कभी भी ये एक्सरसाइज कर सकते हैं.
बेहतर रिजल्ट पाने के लिए आप प्रयास करें कि आपका पूरा ध्यान पेल्विक फ्लोर मसल्स पर ही हो. सावधानी बरतिए कि ऐसा करते हुए आपके जांघ या पेट की मसल्स relaxed रहें. इस दौरान आपकी सांसें भी नॉर्मल तरीके से चलनी चाहियें.

d) कंडोम का प्रयोग

Penis की sensitivity घटाने के लिए पुरुष Climax Control कंडोम का प्रयोग कर सकते हैं. इनमे numbing agents, जैसे कि benzocaine or lidocaine लगा होता है और इनकी thickness भी अधिक होती है जिससे ejaculation delay करने में मदद मिलती है.

4) योग प्राणायाम
योग प्राणायाम वैसे भी संपूर्ण शरीर के लिए फायदेमंद है किंतु शीघ्रपतन की चिकित्सा में इससे विशेष लाभ मिलता है. जैसे – वज्रासन, मंडूकासन, शीर्षासन आदि.

5) आधुनिक चिकित्सा
उपरोक्त उपायों से समाधान ना होने पर आधुनिक चिकित्सा ली जा सकती है जिसमें आपको डॉक्टर से मिलकर सही दवाएं लेनी होती हैं. हालांकि, officially शीघ्रपतन के लिए कोई दवा नहीं बतायी गयी है लेकिन कुछ antidepressants को इसमें कारगर पाया गया है.

शीघ्रपतन के इलाज के लिए किस डॉक्टर के पास जाना चाहिए?
यदि घरेलू व अन्य उपायों को आजमाने के बाद भी अर्ली डिस्चार्ज की समस्या बनी हुई है तो आपको किसे अच्छे Urologist को दिखाना चाहिए. कभी भी self-proclaimed सेक्सोलोजिस्त और शर्तिया इलाज करने वाले झोलाछाप डाक्टरों व हकीमों के चक्कर में ना पड़ें!

नोट: शीघ्रपतन को एक समस्या तभी माने जब ये बार-बार हो. कभी-कभार होना नॉर्मल है

अंत में बस इनता याद रखिये –

“शीघ्रपतन एक आम समस्या है जिसका पूरी तरह से इलाज किया जा सकता है!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Riley Ridley Jersey 
how much alcohol is kept in the blood online buying primobolan online in uk beef is a costly muscle legal clomifene citrate for sale the us lower 5 ways to stop being nervous for mental health online oxymetholone buy in australia at the origin of muscle less 10 kg is the whole truth about the most bodybuilding natural liver restoration which foods are good to eat order protein dishes buy arimidex in uk homens perdem more easy weight online